Thursday, March 30, 2017

साजिश-ए-कुदरत (Poetry)

साजिश-ए-कुदरत का
 राज़दा हुए बैठा हूं I 
तुमसे मिलना यूं बार-बार
                                   इत्तिफाकन तो नहीं I                                                                                           ...Thomas Mathews